Mamta Pandit

वही पढ़ो जो दिल कहे

ये जो शब्दों में बिखरा हुआ है यही मेरा वजूद है

कोई क्यों लिखता है सिर्फ इसलिए नहीं कि कोई पढ़े क्योंकि लिखना पहले आता है। जब हम लिख रहे होते हैं तब वो कहीं छपा नहीं होता लेकिन हमारी कलम अनवतरत चलती रहती है। उन शब्दों का पढ़ा जाना और किसी से उनका जुड़ पाना बहुत बाद में आता है। हम लिखते हैं मन में उठे हुए भावनाओं के आवेग को एक दिशा देने के लिए, उस बैचैनी से मुक्ति के लिए जो इन शब्दों के कागज़ पर उतरने तक हमारे साथ रहती है। हम लिखते हैं इन मोतियों पर कागज़ पर बिखेर देने के सुकून के लिये। जरूरी नहीं कि की मैं मेरे दर्द, मेरी खुशी और सिर्फ मेरे हालात ही बयां करती हूँ। कईं बार दिलो-दिमाग में कोई किरदार इस कदर छा जाता है कि उसकी कहानी कहना जीवन का सबसे महत्वपूर्ण कार्य हो जाता है।  मिलों दूर बैठे लोगों की आवाज़े उस वक़्त तक लगातार सुनाई देती हैं जब तक वो किसी रचना में नहीं उतर जाती। कईं बार अश्कों की बारिशों के साथ सफ़र शुरू होता है और मीठी मुस्कान पर खत्म और बहुत बार इसका उलट भी , हास्य-व्यंग्य लिखते हुए अचानक संवेदना का कोई ज्वार फूट पड़ता है। जो भी है बस यही समझ पाए कि लिखते रहना है।यूं मान लीजिए एक अनंत से मिले हुए किसी आदेश का पालन है बस। कोई हमें राह दिखा रहा है हम चले जा रहे हैं अपने दिल की आवाज़ को कागज़ पर उतारे जा रहे हैं …धीरे धीरे वजूद शब्दों में बिखरता जाता है…..इसलिए वही लिखा है जो दिल ने कहा है। आप भी वही पढिये जो आपका दिल कहे।

 

सफरनामा


लेखनी

चक्रव्यूह

तुम्हारे जन्म के समय ,
चेहरों की उदासी से शुरू होकर,
तुम्हारे कौमार्य पर
तनती भृकुटियों की रेखा से होते हुए
सदा सुहागन रहो के आशिर्वाद तक,
पंक्ति दर पंक्ति
रचा गया है यह चक्रव्यूह ।
अब जबकि तुम लड़ते लड़ते
पहुँच चुकी हो भीतर तक।
तो बस यह याद रखो की
की तुम अभिमन्यु नहीं
अर्जुन हो इस महाभारत की ।
और तुम्हें बखूबी ज्ञात है
हर चक्रव्यूह का रहस्य ।
तुम्हें कर्म पथ का
बोध कराने को ही कही गई है गीता ।
स्वधर्म की रक्षा के लिए
तुम कभी भी
खींच सकती हो प्रत्यंचा।

-ममता पंडित

रणथंभौर – जब हम उनके इलाके में होते हैं…

रणथंभौर – जब हम उनके इलाके में होते हैं… आपसे कुछ गज़ की दूरी पर नूरी बेख़ौफ़ घूम रही है । इतने लोगों से घिरे होने के बावजूद , वो मनुष्यों के पूरे झुंड को नज़रअंदाज़ कर अपनी राह चली जाती है । हमें अपनी आंखों पर यक़ीन नहीं होता , बच्चे रोमांच से भर […]

इच्छाशक्ति से अपनी दुनिया बदल डाली – विराली

पिछले महीने जब विराली को मुंबई में एक समारोह के दौरान स्टेज पर देखा तो उनके चेहरे के उस अद्भुत तेज़ और उनकी सहजता ने मुझे उनके बारे में और जानने को विवश कर दिया। जल्द ही मेरी ख्वाइश पूरी हुई मेरे एक संदेश पर ही वो माही संदेश के इस साक्षात्कार के लिए राजी […]

यादों के झरोखे से निकले इरादे – मेघना गिरीश

यादों के झरोखे से निकले इरादे – मेघना गिरीश “आप उनकी देह को कैद कर सकते हैं, मगर आत्मा को नहीं क्योंकि उनकी आत्मा आने वाले कल में विचरती है जहाँ तक आप नहीं पहुँच सकते, सपने में भी नहीं.” खलील जिब्रान की संतान के बारे में लिखी हुई इन पंक्तियों को श्रीमती मेघना गिरीश […]


परिचय

मेरा नाम ममता है और अपनी सभी सामाजिक जिम्मेदारियां, पढ़ाई, नौकरी,शादी और बच्चे पूरी करने के बाद में खुद की तरफ लौटी हूँ। बहुत देर से सही मुझे ये एहसास हुआ की सबसे पहले मेरी स्वयं के प्रति भी कुछ जिम्मेदारी है और इसी जिम्मेदारी को निभाते हुए में पुनः लौटी हूँ अपने पहले प्यार लेखन की तरफ, और और इस दुनिया में लौटकर जो सुकून मिला वो शब्दों से परे है। अच्छा हिंदी साहित्य पढ़ते और लिखते रहना चाहती हूँ और ये भी चाहती हूँ कि हर व्यक्ति समझे स्वयं के प्रति अपनी जिम्मेदारी और जीवन के चाहे किसी मोड़ पर ही सही,कुछ पल को ही सही वो लौटे वहां जहाँ उसकी आत्मा बसती हो, जहां उसे सुकून मिलता हो।
यकीन मानो जो नज़र आती हूँ , सब धोखा है ये जो शब्दों में बिखरा हुआ है यही मेरा वजूद है


सफर के साथी


पता

आपके सुझाव

आपके संदेश


One thought on “

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s